bihar student credit card yojana 2022 | ऑनलाइन अप्लाई करे

bihar student credit card yojana 2022: बिहार सरकार ने सभी छात्रों के उच्च शिक्षा के लिए bihar student credit card yojana की शुरुआत किया था जिसमें गरीब परिवार के छात्रों को पॉलिटेक्निक, डिप्लोम कोर्स या उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिए बैंक से 4,0000 (चार लाख) तक का लोन बिना ब्याज के मिलता है। इस bihar student credit card yojana का मुख्य मकसद बिहार में साक्षरता के आंकड़े को सुधारना हैं क्योंकि बिहार में अधिकतर छात्र 10वीं या 12वीं के बाद पढ़ाई छोड़ देता है।

bihar student credit card yojana स्कीम का लाभ ऐसे छात्र उठा सकते हैं जो 10वी या 12वीं की परीक्षा पास कर चुके हैं.आवेदन देते समय छात्र का उम्र 25 साल से ज्यादा नहीं होना चाहिए मैट्रिक पास छात्र को पॉलिटेक्निक या डिप्लोम कोर्स के लिए लोन मिलता है जबकि 12वीं पास छात्र को उच्च शिक्षा के लिए लोन मिलता है लोन में कॉलेज का फी, रहने खाने और पाठ्य सामग्री के खचे शामिल होते है।

student credit card स्कीम के तहत लिए गए कर्ज की गांरटर राज्य सरकार खुद देती है लोन अप्लाई करते वक़्त आपको औप्शन मिलत है कि लिया गया लोन का पैसा छात्र खुद देगा या उनके सह-आवेदक देगा या दोनों देगा।

Bihar Student Credit Card Guidelines | योजना का लाभ लेने के लिए आवश्यक शर्ते :

  1. आवेदक बिहार राज्य, अन्य राज्य अथवा केन्द्र सरकार के संबंधित नियामक एजेंसी द्वारा मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान में उच्च शिक्षा हेतु नामांकित हों या नामांकन के लिए चयनित हों।
  2. छात्र बिहार का निवासी हो एवं राज्य में अवस्थित सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त किसी संस्थान से 12वीं अथवा समकक्ष परीक्षा उर्त्तीण हो।
  3. किसी अन्य स्रोत से किसी भी प्रकार का भत्ता/छात्रवृति/स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड/शिक्षा ऋण या किसी प्रकार का सहायता प्राप्त नहीं हो।
  4. आवेदन की तिथि को आवेदक की आयु 25 वर्ष से अधिक नहीं हो।
  5. यह ऋण उच्च शिक्षा के सामान्य पाठ्यक्रमों एवं विभिन्न व्यावसायिक/तकनीकी पाठ्यक्रमों बी0ए0/बी0एस0सी0/इंजीनियरिंग/एम0बी0बी0एस0/प्रबंधन/विधि आदि के लिए दी जायेगी।

bihar student credit card yojana eligibility criteria

  • कॉलेज का फी स्लिप
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाणपत्र
  • आवेदक और सह-आवेदक का पैन कार्ड
  • आवेदक और सह-आवेदक के आधार कार्ड
  • उच्च शिक्षण संस्थान में दाखिले का प्रमाणपत्र
  • 10वीं और 12वीं के सर्टिफिकेट एवं मार्क्सशीट
  • माता-पिता के बैंक खाते का छह महीन का स्टेटमेंट
  • विद्यार्थी, माता-पिता और गांरटर में से सभी के 2-2 फोटो

Bihar Student Credit Card Yojana Courses list for Loan

  • B.A./ B.Sc./ B. Com. (All subject)
  • M.A./M.Sc./M.Com (All subject)
  • Aalim
  • Shashtri
  • B.C.A.
  • M.C.A.
  • B.Sc. (Information Technology/Computer Application/Computer Science)
  • B.Sc. (Agriculture)
  • B.Sc. (Library Science)
  • Bachelor of Hotel Management & Catering Technology (B.H.M.C.T.)
  • B.Tech/B.E. for laterally admitted candidates having a degree of three years diploma courses approved by the State Technical Education Council
  • Hotel Management and Catering Technology
  • Hospital and Hotel Management
  • Bachelor in Yoga (Entry Level+2Pass)
  • B.Tech/B.E./B.Sc. (Engineering-all branches)
  • B.Sc. (Nursing)
  • Bachelor in Pharmacy
  • Bachelor of Veterinary Medicine and Surgery (B.V.M.S.)
  • Diploma in Hotel Management (Three Year) (I.H.M. Course)
  • Bachelor of Ayurveda, Medicine, and Surgery (B.A.M.S)
  • General Nursing Midwifery (G.N.M)
  • Bachelor of Unani Medicine & Surgery (B.U.M.S)
  • Bachelor of Homeopathic Medicine & Surgery (B.H.M.S.)
  • M.B.B.S.
  • Bachelor of Dental Surgery (B.D.S.)
  • B.Sc. in Fashion Technology/Designing/Apparel Designing/Footwear Designing
  • Bachelor of Physiotherapy
  • Bachelor of Occupational Therapy
  • Diploma in Food, Nutrition/ Dietetics
  • Bachelor of Mass Communication/Mass Media/Journalism
  • Bachelor of Architecture
  • Diploma in Food Processing/ Food Production
  • Bachelor of Physical Education (B. P. Ed.)
  • M.Sc/M.Tech Integrated course
  • Diploma in Food & Beverage Services
  • B.A./B.Sc.-B.Ed. (Integrated Courses)
  • Bachelor of Business Administration(B.B.A.)
  • Master of Business Administration (M.B.A.)
  • Bachelor of Fine Arts (B.F.A.)
  • BL/LLB (5 Year Integrated Course)
  • Degree/Diploma in Aeronautical, Pilot Training, Shipping
  • Polytechnic

bihar student credit card yojana online application

योजना का लाभ उठाने हेतु आवेदक द्वारा ऑनलाईन आवेदन पत्र भरना अनिवार्य है जिससे ऑफिसियल वेबसाइट https://www.7nishchay-yuvaupmission.bihar.gov.in पर जाना होगा जहा छात्र को एक अकाउंट बनाना होगा। अकाउंट बनाने के बाद लॉगिन करना है जिसके बाद bihar student credit card yojana Form खुलेगा जिसमे सभी जरुरी जानकारी भर कर सबमिट करना करना होगा।

सफलता पूर्वक आवेदन करने के पश्चात आवेदक किसी भी कार्यदिवस पर सुबह दस बजे से शाम के छह बजे तक DRCC पहुँच कर अपने कागजातों का सत्यापन करा सकते हैं।

योजना के अन्तर्गत ऑनलाईन आवेदन देने वाले सभी आवेदक को योजना का लाभ उठाने हेतु अपने मूल कागजातों की जाँच जिला निबंधन एवं परामर्श केन्द्र पर कराना आवश्यक है। कागजातों की जाँच एवं अधिकारी/पदाधिकारियों की स्वीकृति के पश्चात आवेदक इस bihar student credit card yojana का लाभ उठा सकेगें।

Bihar Student Credit Card Status Kaise Check Kare

ऑनलाइन अप्लाई कर देने के बाद स्टेटस चेक करने के लिए इस वेबसाइट https://www.7nishchay-yuvaupmission.bihar.gov.in/addapplicationStatus पर जाना होगा जहा Registration Id या आधार नंबर और Date Of Birth जन्म दिन दे कर स्टेटस चेक कर सकते है।

सभी Important News पाने के लिए ग्रुप को JOIN कर पेज को LIKE करें

आवेदनों की जांच में अब नहीं लगेगा समय

बिहार के छात्रों को राज्य सरकार की bihar student credit card yojana से वित्तीय सहायता प्राप्त करना अब आसान हो जाएगा। इसके लिए उन्हें महीनों इंतजार नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि उनके आवेदनों पर थर्ड पार्टी जांच में बहुत अधिक समय नहीं लगेगा। अर्से बाद शिक्षा विभाग ने इसके लिए एजेंसियों का न सिर्फ चयन कर लिया है, बल्कि एजेंसियां काम भी करने लग गई हैं। गौरतलब है कि सही विद्यार्थियों को सही संस्थान में उच्च तथा तकनीकी शिक्षा हासिल करने के लिए सरकार की इस महात्वाकांक्षी योजना का लाभ मिले, इसके लिए आवेदनों की जांच की प्रक्रिया अहम पड़ाव है।

जांच के आधार पर ही शिक्षा विभाग वित्तीय सहायता देने की अनुशंसा करता है। पिछले डेढ़ साल से भी अधिक समय से इसके लिए कोई एजेंसी नहीं थी। नई एजेंसी के चयन तक शिक्षा विभाग ने अपने अधिकारियों की एक छोटी टीम गठित की ली लेकिन देश के अन्य राज्यों से जुड़े संस्थानों के लिए प्राप्त विद्यार्थियों के आवेदनों की जांच ठीक ढंग से नहीं हो पा रही थी। इसे देखते हुए हाल ही शिक्षा विभाग ने दो एजेंसियों को काम आवंटित कर दिया है। एक एजेंसी उत्तर भारत के लिए और एक एजेंसी बिहार से जुड़े शिक्षण संस्थानों के लिए काम भी करने लग गयी है। राज्य में जिस एजेंसी को शिक्षा ऋण से जुड़े थर्ड पार्टी वेरिफिकेशन का काम दिया गया है, उसकी सूचना सभी संस्थानों को दे दी गयी है।

दक्षिण भारत में जांच के लिए भी एजेंसी जल्द

दक्षिण भारत के राज्यों में अवस्थित शिक्षण संस्थानों में बिहार के बच्चों को उच्च शिक्षा ग्रहण की ललक शिक्षा ऋण के जरिए निर्बाध ढंग से पूरी हो, इसको लेकर भी थर्ड पार्टी जांच के लिए एजेंसी चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जल्द ही इस पर भी निर्णय हो जाएगा तबतक विभागीय टीम ही जांच करती रहेगी।

दरअसल, कोरोना काल में पिछले दो साल से राज्य समेत देशभर के शिक्षण संस्थान ज्यादातर बंद ही रहे। इस वजह से सबसे अधिक बुरा प्रभाव आवेदनों की जांच पर पड़ा। थर्ड पार्टी वेरिफिकेशन के लिए इस बीच किसी एजेंसी को कार्य का आवंटन भी नहीं था। पुरानी एजेंसी का टर्म पूरा हो चुका था, नई एजेंसी नियुक्त नहीं हुई थी। अब दो एजेंसी काम करने लगी है और उत्तर भारत तथा बिहार के आवेदनों की जांच जल्द रफ्तार पकड़ लेगी। दक्षिण भारत के राज्यों के लिए भी एजेंसी बहाल हो रही है। इसलिए उम्मीद है कि सत्र के शेष बचे चार माह में ऋण वितरण रफ्तार पकड़ लेगा।

इस शैक्षिक सत्र में bihar student credit card yojana’ लोन महज 30 ही बंटे

बिहार सरकार और शिक्षा विभाग की महत्वाकांक्षी योजना ‘bihar student credit card yojana’ पर भी कोरोना का असर पड़ा है। आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के विद्यार्थियों को ऊच्च व तकनीकी शिक्षा में सहयोग के इस महती कार्यक्रम की चाह और लाभ दोनों प्रभावित हुए हैं।

शिक्षा विभाग ने शैक्षिक सत्र 2021-22 के लिए जो वार्षिक लक्ष्य तय किया था, आठ माह बीतने के बाद भी उसके विरुद्ध महज 60 फीसदी ही आवेदन आए हैं और शिक्षा ऋण महज तीन फीसदी विद्यार्थियों में ही बंटे हैं। शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, एक अप्रैल से 19 नवम्बर 2021 के बीच bihar student credit card yojana के लिए महज 45 हजार 329 आवेदन ऑनलाइन प्राप्त हुए हैं।

डीआरसीसी पर 328432 आवेदन प्राप्त हुए जिनमें से 26729 बैंक/वित्त निगम को अनुशंसित हुए हैं। कुल 22153 आवेदन जबकि शिक्षा ऋण के रूप में कुल 627.94 करोड़ की राशि की स्वीकृति दी गई है। हालांकि, स्वीकृत आवेदनों में से भी सिर्फ 20490 आवेदकों को ऋण वितरित किया जा सका और इस एवज में कुल 387.60 करोड़ रुपए दिए गए हैं। इस तरह लक्ष्य के विरुद्ध उपलब्धि का प्रतिशत 30 ही है।

पिछले छह साल में सबसे अधिक 87 फीसदी लक्ष्य 2018 में हुआ था प्राप्त

शिक्षा ऋण वितरण को लेकर लक्ष्य प्राप्ति के आंकड़ों को देखें तो पिछले छह साल में सबसे अधिक उपलब्धि 2018-19 में 87 फीसदी रही है। उसके बाद यह 71.10 फीसदी 2019-20 में रही। मौजूदा सत्र में जहां यह 30 फीसदी है तो 2020-21 में 23 फीसदी, 2017-18 में 1.75 फीसदी जबकि 2016-17 में 1.09 फीसदी।